HOME REMEDIES

Home Remedies for Gum Pain, Bleeding Gums in Hindi | Cavity Problems

home remedies for gum problem

मसूड़ों के रोगों के लिए सात घरेलू उपचार 

क्या आपको मसूड़ों की बीमारी (Gum Disease) है? अगर हां तो आप अकेले नहीं हैं | यह जानकार शायद आपको बहुत ही हैरानी होगी कि आधे से ज्यादा 30 साल से छोटी उम्र के भारतीयों को मसूड़ों की बीमारी है | अब आपको दुखते हुए और सूजे हुए मसूड़ो से परेशान होने की जरूरत नहीं है मसूड़ों की बीमारियों के कई घरेलू इलाज है |

1) तेल

यह विधी केवल सुजे और लाल मसूड़ो (Sensitive Gums) के लिए नहीं है बल्कि इस विधि के प्रयोग से दांतो की परेशानियों (Teeth Problems Home Remedies) का भी निवारण हुआ है | बस ध्यान रहे कि आप सो प्रतिशत प्राकृतिक तेल को इस्तेमाल करे, आप कीटनाशक से लदे तेल को अपने मुँह में डालना नहीं चाहेंगे |

2) तेज़ पत्ते का

यह मसूड़े की सूजन और मसूड़ों के रोग के लिए एक पुराना उपाय है। आप बस कुछ जल में लगभग 50 ताज़ी तेज़ पत्तियों को उबाल लें और फिर दिन में कई बार इसे काढ़ा के रूप में और मुंह-वाश की तरह उपयोग करें। आप चाहे तो तेज़ पत्ते की चाय बनाकर उसे दिनभर पी सकते हैं ।

3) लहसुन और हल्दी का पेस्ट

अपने मसूड़ो की बीमारियां हटाने के लिए लहसुन और हल्दी का प्रयोग टूथपेस्ट की तरह करे | मसूड़ो की बीमारी वाली जगह पर पेस्ट लगाए और कुछ समय बाद कुल्ला कर ले |

4) नीम

इस पौधे का उपयोग भारत में हजारों विभिन्न उपचार उपायों के लिए किया जाता है, उनमें से कई दंत स्वास्थ्य के लिए है | आप नीम के पत्तों का प्रयोग मुंह में कर सकते हैं या नीम के टूथपेस् का भी प्रयोग कर सकते हैं। इसमें एंटी-बैक्टीरियल (anti-bacterial) और एंटिफंगल( anti-fungal) दोनों गुण हैं |

5) सरसों का तेल

यह विधि सैकड़ों वर्षों में खराब दांतो से निपटने के लिए इस्तेमाल की गई है। यह मुंह में बैक्टीरिया को नष्ट कर देता है और मसूड़ों को बहुत तेज कर देता है। इसमें माइक्रोबियल एंटी-बैक्टीरियल एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-बैक्टीरियल होने के साथ दर्द-कम करने के गुण भी होते हैं|

6) एलो वेरा जेल

अगर जेल सीधा एलो वेरा के पौधे से लिया जाए तो यह लाल मसूड़ो और उनकी सूजन (Swollen Gums) के लिए विशेष रूप से सहायक होती है |

7) अधिक फल और सब्जियों खाए

फल और सब्जियों दांतो को मजबूत बनाने में मदद तो करते ही हैं साथ ही यह दांतो पे पीली परत नहीं जमने देते |

Comment here